Hindi, Uncategorized

Baki sab fasclass hai lyrics -Kalank

First Class Lyrics in Hindi,Baki sab fasclass hai lyrics from movie Kalank, Baki sab fasclass hai lyrics sung by Arijit Singh, Neeti Mohan. The song is writing by Amitabh Bhattacharya

Singers – Arijit Singh & Neeti Mohan

Music – Pritam

Lyrics :Amitabh Bhattacharya

Baki sab fasclass hai lyrics English

Mere hothon se dhuandhar nikalti hai jo boli
Jaise, jaise banduk ki goli
Mere tevar mein hai, tehzeeb ki rangeen rangoli
Jaise, jaise ho Eid mein holi
Mere hothon se dhuandhar nikalti hai jo boli
Jaise, jaise banduk ki goli
Mere tevar mein hai, tehzeeb ki rangeen rangoli
Jaise, jaise ho Eid mein holi

Mere jeevan ki dasha, thoda raston ka nashaa
Thodi manzil ki pyaas hai..
(Baaki sab first class hai)-4
Haan.. kasam se, baaki sab first class hai

Pal mein.. tola, pal mein maasaa
Jaisi baazi waisa paasaa..
Apni thodi hattke duniyadaari hai..
Karna kya hai, chaandi sonaa
Jitna pana, utna khona
Hum toh dil ke dhande ke, vyapari hain..

Meri muskaan liye, kabhi aati hai subah
Kabhi shaamein udaas hai
(Baaki sab first class hai)-3
Haan.. kasam se, baaki sab first class hai

Ho.. sabke hothon pe charcha tera
Bantta galiyon mein parcha tera
Yun toh aashiq hain, laakhon magar..
Sabse ooncha hai darja tera

Jeb mein ho, athhanni bhale..
Chalta noton mein, kharcha tera
Yun toh aashiq hain laakhon magar
Sabse ooncha hai, darja tera
Sabse ooncha hai, darja tera..

Jeb mein ho, athhanni bhale..
Chaltaa noton mein, kharcha tera
Yun toh aashik hain laakhon magar
Sabse ooncha hai, darja tera
Sabse ooncha hai, darja tera

Meri tareef se chhupti phire badnamiyan meri
Jaise, jaise ho aankh micholi
Mere tevar mein hai tehzeeb ki rangeen rangoli
Jaise, jaise ho Eid mein, holi

Mere jeevan ki dasha, thoda raston ka nashaa
Thodi manzil ki pyaas hai
(Baaki sab first class hai)-4
Haan.. kasam se, baaki sab first class hai

मेरे होठों से धुआंधार निकलती है जो बोली..
जैसे,जैसे बन्दूक की गोली
मेरे तेवर में है, तहज़ीब की रंगीन रंगोली
जैसे,जैसे हो ईद में, होली
मेरे होठों से धुआंधार निकलती है जो बोली
जैसे,जैसे बन्दूक की गोली
मेरे तेवर में है, तहज़ीब की रंगीन रंगोली
जैसे,जैसे हो ईद में, होली

मेरे जीवन की दशा, थोड़ा रस्तों का नशा
थोड़ी मंजिल की प्यास है….
(बाकी सब फर्स्ट क्लास है)-4
हाँ… कसम से, बाकी सब फर्स्ट क्लास है

पल में.. तोला, पल में मासा
जैसी बाज़ी वैसा पासा..
अपनी थोड़ी हट के, दुनियांदारी है..
करना क्या है, चाँदी सोना
जितना पाना, उतना खोना
हम तो दिल के धंधे के, व्यापारी हैं.

मेरी मुस्कान लिए, कभी आती है सुबह
कभी शामें उदास है..
(बाकी सब फर्स्ट क्लास है)-३
हाँ… कसम से, बाकी सब फर्स्ट क्लास है
बाकी सब फर्स्ट क्लास है

हो… सबके होठों पे चर्चा तेरा
बंटता गलियों में पर्चा तेरा
यूँ तो आशिक हैं, लाखों मगर..
सबसे ऊँचा है दर्जा तेरा

जेब में हो, अठन्नी भले..
चलता नोटों में, खर्चा तेरा
यूँ तो आशिक हैं लाखों मगर
सबसे ऊँचा है, दर्जा तेरा
सबसे ऊँचा है, दर्जा तेरा..

मेरी तारीफ़ से छुपती फिरे. बदनामियाँ मेरी
जैसे,जैसे हो आँख मिचोली
मेरे तेवर में है तहज़ीब की रंगीन रंगोली
जैसे,जैसे हो ईद में, होली

मेरे जीवन की दशा, थोड़ा रस्तों का नशा
थोड़ी मंजिल की प्यास है
(बाकी सब फर्स्ट क्लास है)-३
बाकी सब फर्स्ट क्लास है
हाँ… कसम से, बाकी सब फर्स्ट क्लास है

8 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.